Ludo Full Movie Review in Hindi Language

Ludo-Full-Movie-Review-in-Hindi-Language

Introduction

Ludo फिल्म को भारत में नेटफ्लिक्स ने 12 नवंबर 2020 को रिलीज़ किया है। इस फिल्म को आप अपनी पूरी फैमिली के साथ देख सकते हो क्योंकि इसमें कोई भी अश्लील दृश्य नहीं है। Ludo फिल्म के निर्देशक है अनुराग बासु और फिल्म के निर्माता है भूषण कुमार, दिव्या खोसला कुमार, कृष्ण कुमार, अनुराग बासु, तानी बासु और दीपशिखा बोस। Ludo फिल्म में मुख्य नायक हैं अभिषेक बच्चन, आदित्य रॉय कपूर, राज कुमार रओ, पंकज त्रिपाठी, फातिमा सना शैख़, सान्या मल्होत्रा, रोहित सुरेश सराफ और पार्ले माने। Ludo फिल्म का कुल रनिंग टाइम 2 घंटे 30 मिनट हैं।

Story

Ludo फिल्म एक भारतीय एंथोलॉजी डार्क कॉमेडी अपराध फिल्म है और Ludo फिल्म की कहानी एक पैसों से भरे बैग, एक इंटरनेट पर पड़ी अश्लील वीडियो, भाग्य, मौका और पौराणिक कथाओं के तत्वों के साथ एक विलक्षण अपराधी पर चार बेतहाशा अलग-अलग कहानियां का यह फिल्म प्रतिनिधित्व करती हैं और इन सभी कथाओं को आखिर में एक दूसरे से जोड़ा जाता है। Ludo फिल्म के आखिर में कोण कोण बचता है और कोण कोण मरता है ये जानने के लिए आपको Ludo फिल्म की समीक्षा पड़नी होगी।

Review

Ludo फिल्म की कहानी शुरू होती है सत्तू भइया (Pankaj Tripathi) से जो एक आदमी को गोली मार कर जान से मार देता है लेकिन उस आदमी को मारते हुए को राहुल अवस्थी (Rohit Suresh Saraf) देख लेता है और सत्तू भइया उसे अपनी वैन में डाल लेता है। राहुल एक मॉल में काम करता है और उसने अपने कमरे का किराया नहीं देने की वजह से मकान मालक ने उसे घर से बाहर निकाल दिया है जिसके बाद राहुल किसी घर के आगे लगे मेज पर सो जाता है और उसी समय वो सत्तू भइया को खून करते देख लेता है। उसके बाद सत्तू भइया, भानु (Bhanu Uday) को भी उसके घर से उठा लेते हैं क्योंकि भानु ने सत्तू भइया से 50 लाख का कर्ज़ा लिया होता है अपनी वीबी आशा (Asha Negi) को एक दुकान खोल के देने के लिए। लेकिन कर्ज़ा कम् होने की वजाये बढ़ता ही जाता है और इस लिए सत्तू भइया भानु को उठा के ले जाता है अपने अड्डे पर और आशा को कह जाता है के बिट्टू को हमसे मिलने को कहना।

दूसरी कहानी आकाश चौहान (Aditya Roy Kapoor) अपने वकील पिता के पास जाता है अपनी वीडियो दिखाने के लिए जिस में आकाश अपनी पूर्व प्रेमिका श्रुति चौकसी (Sanya Malhotra) के साथ सेक्स करता दिखाई देता है और किसी ने आकाश की ये वीडियो बना कर इंटरनेट पर डाल दी होती है। आकाश और उसका पिता इसकी शिकायत करने के लिए पुलिस स्टेशन जाते है लेकिन पुलिस वाले उनकी शिकायत दर्ज नहीं करते क्योंकि उस वीडियो में आकाश का चेहरा नहीं बल्कि सिर्फ और सिर्फ श्रुति का चेहरा ही दिखाई दे रहा होता है और इसके लिए उस वीडियो की शिकायत सिर्फ श्रुति ही कर सकती है। आकाश श्रुति को लेने के लिए उसके घर जाता है वहां पर श्रुति की एक हफ्ते बाद शादी होती है इस लिए उसकी शादी की त्यारियां चल रही होती है। आकाश, श्रुति को वो वीडियो दिखाता है जिसके बाद श्रुति उस को एक थप्पड़ मरती है क्योंकि श्रुति को ऐसा लगता है के आकाश ने ये सब खुद किया है मुझसे पैसे लेने के लिए लेकिन फिर आकाश श्रुति को समझाता है के ये वीडियो मैंने नहीं बल्कि किसी और ने बनाई है और इसकी शिकायत करने के लिए तुम्हे मेरे साथ पुलिस स्टेशन चलना होगा और इसके बाद आकाश उसको ये सब बता कर वापिस आ जाता है।

उसके बाद तीसरी कहानी अलोक कुमार गुप्ता (Raj Kummar Rao) की फिल्म में एंट्री होती है जो बचपन से एक लड़की पिंकी (Fatima Sana Shaikh) से प्यार करता होता है लेकिन पिंकी, अलोक को छोड़ कर किसी और से शादी कर लेती है, जिसके बाद अलोक अपना एक ढाबा खोल लेता है। एक और बात अलोक के अंदर फिल्मो में काम करने का कीड़ा भी होता है जिसके लिए वो कुछ मंचों पर शो भी करता है। इसके बाद पिंकी की शादी शुदा जिंदगी की कहानी शुरू होती है जिसमे पिंकी अपने पति पर कुछ बातों को लेकर शक्क करने लगती है और रात को जैसे उसका पति अपने दोस्त भिंदर को मिलने के बहाने घर से चला जाता है। जैसे ही वो घर से निकलता है पिंकी अपने बच्चे को पड़ोस में पकड़ा कर अपने पति का पीछा करने के लिए उसके पीछे जाती है पर उसका पति पिंकी को पीछा करते हुए देख लेता है और वो अपनी प्रेमिका को मिलने नहीं बल्कि सच में अपने दोस्त भिंदर के घर चला जाता है। जैसे ही पिंकी उसको देख कर घर को जाती है और फिर उसका पति अपनी प्रेमिका को मिलने के लिए चला जाता है और अपनी गाडी भिंदर के घर छोड़ जाता है। इसके बाद सत्तू भइया भिंदर को गोली मार देता जिसके बारे में आपको शुरू में बताया था।

इसके बाद कहानी शुरू होती है बिट्टू (Abhishek Bachchan) की जो पहले सत्तू भइया के साथ मिल कर दो नंबर का धंधा कर रहा होता है लेकिन बिट्टू की जिंदगी में आशा (Asha Negi) आ जाती है और बिट्टू आशा से शादी कर लेता है जिसके बाद बिट्टू सत्तू भइया का साथ छोड़ देता है और एक ईमानदार की जिंदगी जीने लगता है पर सत्तू भइया को ये बात हजम नहीं होतीऔर वो बिट्टू को किसी कतल के केस में जेल में फसा देता है 6 साल के लिए पुलिस वालों को पैसे खिला के। 6 साल के बाद बिट्टू जेल से बहार आ जाता है और जब वो अपने घर जाता है अपनी वीबी आशा और बेटी रूही को मिलने के लिए और वो दोनों घर में नहीं मिलते क्योंकि आशा ने बिट्टू के जेल जाने के बाद बिट्टू के ही एक दोस्त भानु के साथ शादी कर ली होती है। जिसके बाद बिट्टू अपनी बेटी रूही को मिलने के लिए भानु के घर जाता है लेकिन रूही उसको मिल नहीं पाती क्योंकि आशा और भानु ने रूही को हॉस्टल में पड़ने के लिए भेज दिया होता है। अभ कहानी शुरू होती है मिनी (Inayat Verma) की जिसके माँ बाप दोनों अपने काम में बहुत व्यस्त होते है जिसकी वजह से मिनी का दिल बहलाने के लिए उसे कुत्ता ला कर देते है लेकिन उनकी काम वाली उस कुत्ते से परेशान होकर नौकरी छोड़ने की धमकी देती है जिसकी वजह से मिनी के माँ बाप कुत्ते को घर से बाहर निकाल देते है और हाँ मिनी टी वि पर CID के कार्यक्रम बहुत देखती है। दूसरी और आशा बिट्टू के पास आती है अपने पती को सत्तू भइया से छुड़वाने की मदद मांगने के लिए और बिट्टू सत्तू भइया के पास जाता है।

Ludo-Full-Movie-Review-in-Hindi-Language

दूसरी और कुट्टी (Shalini Vatsa) एक हॉस्पिटल में नर्स का काम कर रही होती है जिसके सपने बहुत बड़े हैं और कुट्टी मद्रास से होती है जिसकी वजह से उसको हिंदी और इंग्लिश नहीं आती इलावा मलयालम के। सत्तू भइया के अड्डे पर गैस सिलेंडर फट जाता है जिसकी वजह से कुट्टी एम्बुलेंस में सत्तू भइया को हॉस्पिटल में लेकर जा रही होती है और सत्तू भइया राहुल को भी साथ ले जाता है। थोड़ी आगे जाकर सत्तू भइया, कुट्टी को एम्बुलेंस से बाहर धक्का मरता है लेकिन कुट्टी राहुल को भी साथ खींच लेती है जिसकी वजह से सत्तू भइया गोली चला देता है और गोली जाकर एम्बुलैस के ड्राइवर को लग जाती है जिसकी वजह से एम्बुलेंस पटरी के बिच जा कर टकरा जाती है और उसी समय पटरी पर गाडी आ जाती है लेकिन राहुल किसी तरह से सत्तू भइया और उसके पैसों से बारे बैग को खींच के बचा लेता है। जिसके बाद राहुल और कुट्टी, सत्तू भइया को एक नदी के पुल पर लेजाकर धक्का दे देते हैं ता जो वो पैसो से भरा बैग उनका हो जाये। दूसरी और पिंकी के पती को भिंदर के कतल में पुलिस वाले पक्कड़ लेते है और उसका पती पिंकी को उसकी प्रेमिका सम्भावी को मिलने को कहता है जो पुलिस वालो को गवाही दे सकती है के जिस रात भिंदर का कतल हुआ था उस रात मैं उस के साथ था, जिसके बाद पिंकी, सम्भावी के पास जाती है मदद के लिए। लेकिन सम्भावी पिंकी के पती को पहचानने से मना कर देती है और उसके बाद पिंकी अपने पूर्व प्रेमी अलोक ने पास जाती है मदद के लिए और अलोक मान जाता है। जैसे ही अलोक और पिंकी सम्भावी के घर जाते है गवाही के लिए मनाने के लिए, सम्भावी और उसका पती गवाही देने के लिए मान जाते है 20 लाख रुपये के बदले में।

दूसरी और मिनी अपने कुत्ते को ढूंढती हुई बिट्टू के पास पहुँच जाती है और रात बिट्टू के घर रुक जाती है ये बोल के कुछ लोगो ने उसके माँ बाप को अगवाह कर लिए है लेकिन ये सभ जूठ होता है क्योंकि मिनी अपने घर से बाग़ कर आई होती है और मिनी के कहने पर बिट्टू मिनी के घर वालो से कुछ पैसो के लिए फ़ोन करता जिसको वो सत्तू भइया को देकर आशा के पती भानु को छुड़वा सके और बिट्टू पैसो लेकर आशा को दे देता है और अपना जेल भेजने वाला बदला लेने सत्तू भइया के पीछे चला जाता है। दूसरी और श्रुति भी पहुँच जाती है आकाश के पास और वो दोनों उस होटल को ढूंढने लग जाते यहाँ पर उन दोनों की वीडियो बनाई थी। सत्तू भइया भी बच जाता है मरने से और कुट्टी के ही हस्पताल में पहुँच जाता है जिसकी वजह से कुट्टी अपने पैसे लेकर राहुल के साथ भाग जाती है और एक होटल में जा कर रहने लगते हैं। उसी हॉस्पिटल में पिंकी का पती भी पहुँच जाता है और ये सब अलोक की एक चाल होती है उसको जेल से बाहर निकलने के लिए। जिसके बाद अलोक एक मशीन की मदद से पिंकी के पती को हॉस्पिटल से भगा लेता है लेकिन साथ में सत्तू भइया भी बाग़ जाता है। अलोक किसी तरह से पिंकी और उसके पती को गाड़ी देकर नेपाल जाने के लिए भेज देता है लेकिन रास्ते में उन दोनों के विच जगदा होने की वजह से पिंकी अपने पती को गोली मार देती है और वापिस अलोक के पास आ जाती है उसके साथ रहने के लिए।

सत्तू भइया को कुट्टी और राहुल का पता चल जाता है और वो उस होटल के लिए निकाल जाता है और उसी होटल में आकाश और श्रुति भी रुके होते है। और उनको वो कैमरे का भी पता चल जाता है और वो पुलिस को भुला लेते हैं। इस तरह वो सभी उस होटल में इकठे हो जाते हैं। बिट्टू के पहुंचने के बाद सभी एक दूसरे पर गोलियां चलने लगते है जिसमे बिट्टू मर जाता है, राहुल और कुट्टी भी बच के भाग जाते है और रही सत्तू भइया की बात वो जैसे ही बाग़ रहा होता है उसका एक गाडी के साथ दुर्घटना हो जाती है लेकिन सत्तू भइया बच जाता है और अपने सभी बुरे धंदे छोड़ कर शादी कर लेता है। दूसरी और श्रुति भी अपनी शादी तोड़ कर आकाश के साथ शादी कर लेती है और राहुल और कुट्टी भी एक दूसरे से शादी कर लेते हैं। ये थी Ludo फिल्म की समीक्षा, आप मुझे निचे कमेंट कर के बता सकते हो के आप को Ludo फिल्म की समीक्षा कैसी लगी।

Leave a Reply

%d bloggers like this: